UPI से लेनदेन बंद होने पर क्रिप्टो निवेशकों के बीच चिंता का मौहोल

बड़े UPI से लेनदेन बंद होने बाद कृपटो निवेशक के बीच बढ़ी परेशानी। इसकी वजह से एक बार फिर से क्रिप्टो निवेशक परेशान नजर आ रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक कॉइनस्विच कुबेर ने यूपीआई और एनएफटी आरटीजीएस और आइएमपीएस कैसे बैंक हसंतरण के साथ  रुपए जमा करना एक बार फिर पूरी तरह से बंद कर दिया है। इस खबर के बाद छोटे निवेशक को को भी बड़ा झटका लगा है। आइए इस खबर के बारे में और विस्तार से चर्चा करते हैं

Crypto UPI

रिपोर्ट के मुताबिक ज्यादातर क्रिप्टिसिंह जैसे कि कॉइनस्विच कुबेर वजीरएक्स ने व्यापक रूप से इनके द्वारा इन के माध्यम से की जाने वाली यूपीआई के माध्यम से की जाने वाली भुगतान पर एक बार फिर पूरी तरह से रोक लगा दिया है। इस खबर के बाद एक बार फिर से भारतीय क्रिकेटर निवेशक बुरी तरह से फंस गए हैं। इस प्रतिबंध की वजह से भारत में छोटे करोड़ों के निवेशकों को बड़ा झटका लगा है।

क्रिप्टो निवेशकों के लिए यूपीआई क्रिप्टो एक्सचेंज में पैसा जमा कराने के लिए यह हमेशा से निवेशकों का पसंदीदा मार्ग रहा है अधिकतर क्रिप्टो निवेशक यूपीआई क्रिप्टो एक्सचेंज के द्वारा ही पैसा जमा कर आते थे, जिस वजह से उन्हें काफी बड़ा झटका लगा है। आपको बता दें कि पिछले वर्ष यूपीआई से होने वाले लेनदेन लगभग 1 ट्रिलियन डॉलर पार कर गई थी।

वही आपको बता दें कि वजीरएक्स अभी सिर्फ नेट बैंकिंग और व्यक्ति से व्यक्ति के माध्यम से पैसे जमा करा रहा है।

ट्विटर पर दिखा निवेशकों का गुस्सा

इस खबर के आने के बाद ट्विटर पर निवेशकों का गुस्सा साफ दिखाई दे रहा है।ज्यादातर प्रमुख बैंकों जैसे एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के पेमेंट गेटवे एक्सचेंज पर समर्थित नहीं थे। इस खबर के आने के बाद ट्विटर पर क्रिप्टो निवेशक इसके खिलाफ ट्रेंड चला रहे हैं और इसका विरोध कर रहे हैं।

अमेरिक एक्सचेंज के वजह से आया मामला सामने

यह खबर पिछले सप्ताह एनपीसीआई के स्पष्ट करने के बाद लोगों के सामने आया।

Conclusion

दोस्तों अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और कमेंट करके बताएं कि आपको हमारा यह लेख कैसा लगा।

धन्यवाद

Previous articleगोल्डमैन सैक्स ने अपना पहला बिटकॉइन समर्थित ऋण दिया
Next articleबिटकॉइन के मुकाबले बेहतर विकल्प है Gold