क्रिप्टोकरेंसी में करते हैं निवेश तो FAQ के जरिये सरकार देने वाली है जल्द बड़ा अपडेट!

क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करने वाले इन्वेस्टर्स के लिए यह बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है की भारत सरकार क्रिप्टोकरेंसी के ऊपर टैक्सेशन को लेकर सोच विचार कर रही है। इसके साथ एफएक्यु के माध्यम से वर्चुअल डिजिटल एसेट्स पर टैक्सेशन और जीएसटी लगाया जा सकता है। क्रिप्टो इन्वेस्टमेंट की इस खबर को पूरा जानने के लिए हमारे इस ब्लॉग को पूरा पढ़े।

क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करने वाले इन्वेस्टर्स के लिए यह बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है की भारत सरकार क्रिप्टोकरेंसी के ऊपर टैक्सेशन को लेकर सोच विचार कर रही है। इसके साथ एफएक्यु के माध्यम से वर्चुअल डिजिटल एसेट्स पर टैक्सेशन और जीएसटी लगाया जा सकता है। क्रिप्टो इन्वेस्टमेंट की इस खबर को पूरा जानने के लिए हमारे इस ब्लॉग को पूरा पढ़े।

 क्रिप्टोकरेंसी में करते हैं निवेश तो FAQ के जरिये सरकार देने वाली है जल्द बड़ा अपडेट! 99 Hindi

हलाकि, आर्थिक मामलों में आरबीआई और राजस्व विभाग द्वारा एफएक्यू का सेट ड्राफ्ट बनाया जा रहा है। इसके बाद लॉ मिनिस्ट्री द्वारा ही एफएक्यू के सेट ड्राफ्ट का रिव्यु किया जायेगा। इसके आवला एक अधिकारी द्वारा बताया गया की क्रिप्टोकरेंसी के साथ साथ वर्चुअल डिजिटल एसेट्स में लगाए जाने वाले टैक्सेशन पर जो सवाल बार बार पूछा जा रहा है उस पर भी विचार किया जा रहा है। यह सभी सवाल जो आम जनता द्वारा पूछे जाते है इन सभी सवालो पर भारत सरकार अच्छे के सोच विचार कर रही है साथ ही लॉ मिनिस्ट्री द्वारा भी इन सभी बातो पर राय मांगी गई है।

टैक्स को लेकर बाते होंगी स्पष्ट -:

किसी अधिकार द्वारा बताया गया है कि डीईए केंद्रीय बैंक आरबीआई और राजस्व विभाग द्वारा यह सुनिश्चित किये जाने के लिए वह काम क्र रहे है कि फील्ड टैक्स ऑफिस और क्रिप्टोकरेंसी इसीके साथ अन्य डिजिटल करेंसी का लेनदेन करने करने पर टैक्स लगाने को लेकर बात को स्पष्टता किया जाए।

बजट पर 30% टैक्सेशन लगाने की बात -:

आने वाले सालो में क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्सेशन लगाने की बात को स्पष्ट कर सकती है। 1 अप्रैल, साल 2022 से क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े लेन दें पर 30% तक का इनकम टैक्स, सेस और सरचार्ज लगाया जायेगा।

कुछ लोगो को मिल सकती है छूट -:

साल 2022-23 में बजट एक साल पर क्रिप्टोकरेंसी से 10000 रुपये से ज्यादा के लेन दें पर 1% टीडीएस के साथ इस तरह के उपहार लेने वालों में भी टैक्सेशन है। जिसके तहत किन्ही विशेष लोगो के लिए टीडीएस चार्जेज की सीमा ज्यादा से ज्यादा 50000 रुपये तक सालाना रखी जाएगी। इसमें व्यक्ति/एचयूएफ और आदि शामिल किये गए है, और उन्हें उनके खातों का इनकम टैक्स ऑडिट करवाना जरूरी है।

क्रिप्टोकरेंसी कोई वस्तु है या फिर कोई सेवा -:

इसी के अलावा 1% टीडीएस चार्ज का प्रावधान 1 जुलाई, साल 2022 से शुरू किया जायेगा। साथ ही लाभ होने पर टैक्सेशन को 1 अप्रैल, साल 2022 से शुरू किया गया है। इन सब के अलावा क्रिप्टोकरेंसी कोई वस्तु है या फिर कोई सेवा इस बात की पुष्टि भी जीएसटी के माध्यम से एफएक्यू द्वारा की जायेगा। अभी आपको क्रिप्टो एक्सचेंजों पर मिलने वाली सेवाओं पर 18% जीएसटी लगाया जाता है और इसको वित्तीय सेवाओं की तरह वर्गीकृत किया गया है।

तो आज आपने हमारे इस ब्लॉग के बारे में क्रिप्टो से जुड़े हुव महत्वपुर्ण खबरों के बारे में जाना है। साथ ही आप इन खबरों से आगे किये जाने वाले क्रिप्टो इन्वेस्टमेंट में ध्यान देने में ज्यादा आसानी होगी। यदि आप हमारे माध्यम से क्रिप्टोकरेंसी मार्किट की सभी खबरों से अपडेट रहना चाहते है तो हमे ज़रूर फॉलो करे और साथ ही आप हमारे इस ब्लॉग को अपने सभी दोस्तों के बिच शेयर भी कर सकते है।

Previous articleBitcoin में फिर अच्छी तेजी, ईथर, डोजकॉइन, टेरा सहित अन्य क्रिप्टोकरेंसीज में भी तगड़ा उछाल
Next article क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट, बिटकॉइन, शिबा, डोज़कॉइन सब गिरे