Google के पूर्व CEO का बड़ा बयान कहा cryptocurrency से ज्यादा Web 3 को पसंद करते है

गूगल के पूर्व सीईओ श्मिट ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान क्रिप्टो करेंसी से संबंधित एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि वे क्रिप्टो करेंसी को पसंद करते हैं लेकिन उससे ज्यादा कहीं Web 3 को पसंद करते है। इंटरव्यू के दौरान हो ने बताया कि वे क्रिप्टो करेंसी को चाहते तो है लेकिन अधिकांश ब्लॉकचेन अपनी सुरक्षा को लेकर सुनिश्चित करने में काफी समय लगाते हैं कि उन पर कोई हमला ना हो। उनका कहना ब्लॉकचेन से जुड़ी सुरक्षा समस्या को लेकर था। क्रिप्टो करेंसी से web3 की तुलना करते हुए उन्होंने कहा कि वह व्यक्ति को ज्यादा पसंद करते हैं। तो आइए आगे इस विषय में और विस्तार से चर्चा करते हैं।

Google के पूर्व CEO का बड़ा बयान कहा cryptocurrency से ज्यादा Web 3 को पसंद करते है 99 Hindi

जैसा कि आपको बता दे गूगल के पूर्व सीईओ हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान पूरी दुनिया में उभरते हुए ब्लॉकचेन इंडस्ट्री पर अपना काफी बड़ा बयान दिया है। आज पूरी दुनिया में ब्लॉकचेन इंडस्ट्री उभर रही है। इसको लेकर बड़े-बड़े कंपनियों के सीईओ और देशों का अलग-अलग रूप है। काफी बारिश में हो रहे इस काम को लेकर चिंता जताई जाती है।Eric Schmidt ने कहा कि उन्हें सबसे ज्यादा आकर्षित क्रिप्टो करेंसी की जगह web3 करती है। उन्होंने कहा कि वे 3 का भविष्य बहुत अच्छा है और यह क्रिप्टो करेंसी के मुकाबले उस में हो रहे इस काम को सुनिश्चित करने में ज्यादा समय नहीं लगाता है। आपको बता दें किEric Schmidt ने इससे पहले गूगल के सीईओ के तौर पर भी काम किया है। आगे उन्होंने कहा कि उन्हें web3 इसलिए सबसे ज्यादा आकर्षित करती है क्योंकि उसमें टोक्नो मिक्स धारणा है। टूनोमिक्स वह धारणा है जो उनकी रुचि वह फ्री में बढ़ाती है। हालांकि आगे उन्होंने बताया कि वह अपने कुछ पैसे डिटेल एसिड में भी निवेश किए हैं। क्रिप्टो करेंसी की बजाए web3 में अपनी पक्ष रखते हुए उन्होंने कहा कि अगर वह आज सॉफ्टवेयर इंजीनियर के के तौर पर काम कर रहे होते तो अपना पूरा ध्यान web3 पर केंद्रित करते।

How to buy PI coin in India – इस क्रीपटों से पैसा कैसे कमाए

Sun Crypto kya hai – ये क्या है और इसका इस्तेमाल कैसे करे

Schmidt ने CNBC को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि इंटरनेट का एक नया मॉडल जहां आप अपनी पहचान को एक व्यक्ति के रूप में कंट्रोल कर सकते हैं और जहां आपके पास कोई सेंट्रलाइज मैनेजर भी नहीं है यह बहुत पावरफुल हो सकती है। यही चीज उन्हें web3 की ओर ज्यादा आकर्षित करती है। आगे उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से डिसेंट्रलाइज्ड है। उन्होंने एक अपनी भावना याद करते हुए कहा कि जब वह 25 साल के थे तब उन्होंने कहा था कि सब कुछ डिसेंट्रलाइज्ड होगा।उन्होंने आगे बताया कि >वेब 3 कंटेंट ओनरशिप के नए मॉडल और लोगों को उनके निर्माण के बदले पैसा कमाने के तरीकों को जन्म देगा। 

श्मिट ने कहा कि web3 की अर्थशास्त्र दिलचस्प है इसमें यूज करने की पैटर्न भी काफी दिलचस्प है। आपको बता दें कि श्मिट 2001 से 2011 तक वे गूगल के सीईओ के रूप में काम कर चुके हैं।

Conclusion

तो दोस्तों आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और कमेंट करके बताएं कि यह लेख कैसा लगा।

धन्यवाद

Previous articleTax On Cryptocurrency: क्रिप्टोकरेंसी से होने वाले फायदे पर लगेगा  30 फीसदी टैक्स, नया नियम आज से लागू
Next articleCryptocurrency News Today : लगातार दूसरे दिन भी लगातार दिखी  तेजी, 3000 फीसदी उछला LUNI टोकन