Cryptocurrency Ka Khoj Kab Hua – कब शुरू हुआ क्रीपटों करन्सी

क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल पैसा बीते कुछ सालों में काफी अधिक प्रचलिता हासिल करता जा रहा है। हर किसी को क्रिप्टो करेंसी के बारे में आज के समय में जानकारी होनी चाहिए अगर आप cryptocurrency ka khoj kab hua के बारे में विचार कर रहे हैं और इसके संबंध में सभी प्रकार की जानकारी एकत्रित करना चाहते हैं तो आज के लेख के साथ अंत तक बने रहे। 

क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल पैसा बीते कुछ सालों में काफी अधिक प्रचलिता हासिल करता जा रहा है। हर किसी को क्रिप्टो करेंसी के बारे में आज के समय में जानकारी होनी चाहिए अगर आप cryptocurrency ka khoj kab hua के बारे में विचार कर रहे हैं और इसके संबंध में सभी प्रकार की जानकारी एकत्रित करना चाहते हैं तो आज के लेख के साथ अंत तक बने रहे। 

आज हमारे बीच 5000 से अधिक प्रकार के क्रिप्टो करेंसी आ चुके हैं जिनके बारे में अच्छे से किसी को भी मालूम नहीं है इस वजह से क्रिप्टो करेंसी के बारे में विभिन्न प्रकार की अटकले लगाई जा रही है और धोखाधड़ी होने की संभावना काफी अधिक बढ़ गई है। इन सभी बातों को समझते हुए cryptocurrency ka khoj kab hua और इसके संबंध में सभी प्रकार की जानकारी देने का विस्तार पूर्वक प्रयास आज के लेख में दिया जाएगा। 

Cryptocurrency Ka Khoj Kab Hua

क्रिप्टो करेंसी क्या है

क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल पैसा है जिसे आप छू नहीं सकते केवल अपने मोबाइल और कंप्यूटर पर इंटरनेट के जरिए महसूस कर सकते है। क्रिप्टो करेंसी पर लोग अपना पैसा निवेश कर रहे हैं और अपने पैसे को अधिक बनाने का लगातार प्रयास कर रहे हैं अगर इस संबंध में आप भी अपनी जिज्ञासा प्रकट कर रहे हैं तो आपको बता दें कि क्रिप्टो करेंसी में निवेश करना काफी सरल है मगर बहुत ही जोखिम भरा है। 

यह सब समझने से पहले क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल करेंसी है और इसके साथ साथ इस करेंसी का इस्तेमाल आप पूरे विश्व में कहीं भी कर सकते हैं क्रिप्टो करेंसी की सबसे खास बात यह है कि आप इसका इस्तेमाल पूरे विश्व में कहीं भी कर सकते हैं और इसे कोई भी निजी सरकारी या गैर सरकारी संस्था काबू नहीं करती है यह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के माध्यम से ऑटोमेटिक बनता है और सभी सिक्योरिटीज को नियंत्रित किया जाता है। 

cryptocurrency ka khoj kab hua

इस तरह की बातें सुनकर सबसे पहला विचार हमारे मन में आता है कि आखिर इन सभी तामझाम का शुरुआत कहां से हुआ। आपको बता दें कि क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत 2009 में जापान के एक इंजीनियर सतोशी नाकामोतो द्वारा की गई उन्होंने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के माध्यम से एक करेंसी को काबू करने का विचार व्यक्त किया। क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत एक विचार से हुई कि अगर किसी व्यक्ति को पूरे विश्व से कहीं से भी अपना सामान खरीदना हो तो वह कैसे खरीद पाएगा ऐसा नहीं है कि उस वक्त इसके लिए कोई समाधान नहीं था मगर जो समाधान था वह हर किसी के लायक नहीं था अर्थात अगर आप अमेरिका के किसी सामान को खरीदने के लिए रुपए में भुगतान करते हैं तो आपका पैसा सबसे पहले डॉलर में बदलता है और उसके बाद एक व्यक्ति के पास जाता है और उसके बाद वह व्यक्ति आपके सामान को भेजता है यह प्रक्रिया काफी लंबी थी। 

इसका समाधान एक तरीके से हो सकता था जो तरीका हमें कहता है कि अगर व्यक्ति के पास एक ऐसा करेंसी हो जिसका इस्तेमाल पूरे विश्व में कहीं भी किया जा सके तो इस समस्या का समाधान हो सकता था इसी समाधान को प्रस्तुत करते हुए सतोशी नाकामोतो ने 2009 में बिटकॉइन की शुरुआत की कोई भी सरकारी या गैर सरकारी संस्था इस करेंसी को काबू करने के मत में नहीं थी इस वजह से 1991 में खोजे गए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके सतोशी नाकामोतो ने बिटकॉइन को एक ऐसी श्रृंखला में बदल दिया कि इसके साथ किसी भी प्रकार का छेड़छाड़ किया जाना लगभग असंभव हो गया।

इस बिटकॉइन को ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए इंक्रिप्ट करके एक ऐसी श्रृंखला तैयार की गई जिसमें लंदन की प्रक्रिया को इस कदर रखा जाता है कि आप बिटकॉइन में किसी भी प्रकार का छेड़छाड़ नहीं कर सकते जहां तक इस तरह की करेंसी को बनाने की बात थी तो बिटकॉइन को 21 मिलियन तक अपने आप ऑटोमेटिक तरीके से निकलते रहे एक ऐसी सिस्टम बना कर छोड़ दिया गया। 

2009 में जब यह बात हर किसी को पता चली तो सबको यह जानने लगे कि एक ऐसी करेंसी है जिसका इस्तेमाल विश्व में कहीं भी किया जा सकता है और उस करेंसी की कीमत पहले से ही निर्धारित है इस वजह से उसकी मांग बढ़ने लगी जब बाजार में बिटकॉइन की मांग बढ़ी तो उसकी कीमत में भी बढ़ोतरी हुई और जब कभी ऐसी कोई घटना हुई जिसके वजह से बिटकॉइन की मांग घटी तो बिटकॉइन की कीमत भी घट गई इस वजह से लोगों के पास निवेश करने का एक नया जरिया मिल गया जो काफी जोखिम भरा था मगर निवेश करने के बाद आपको काफी अधिक कमाई हो सकती है। 

क्या क्रिप्टो करेंसी में निवेश करना चाहिए

ऐसा नहीं है कि आज हमारे समक्ष केवल बिटकॉइन है बिटकॉइन की मांग को देखते हुए सतोशी नाकामोतो की तरह बहुत सारे इंजीनियर पूरे विश्व से सामने आए और उन्होंने पूरे विश्व को एक ही करेंसी से बांधने के लिए विभिन्न प्रकार के करेंसी की खोज की जिसमें बिटकॉइन के साथ-साथ एथेरियम ने भी काफी अधिक प्रचलित तहसील की 2020 तक इंसानी सभ्यता इंटरनेट और डिजिटल युग के तरफ इतनी तेजी से आकर्षित हुई थी कि केवल एक या दो क्रिप्टो करेंसी से नहीं बल्कि आज हमारे समक्ष 5000 से अधिक क्रिप्टो करेंसी ने जन्म ले लिया है। 

अब हर किसी के आगे इतना क्रिप्टो करेंसी हो गया है कि हर किसी को यह विचार करना पड़ता है कि कौन सी क्रिप्टो करेंसी वक्त के साथ अपना अच्छा मुनाफा दे पाएगी। इस वजह से अभी क्रिप्टो करेंसी एक जोखिम भरा निवेश होने के साथ-साथ बहुत ही कन्फ्यूजिंग निवेश हो चुका है आपको सर्वप्रथम एक ऐसे क्रिप्टो करेंसी को चुनना होगा जो आने वाले समय में अच्छी रिटर्न दे सके इसके साथ ही आपको एक ऐसा करेंसी चुनना होगा जो अधिक से अधिक मुनाफा दे सके। 

क्रिप्टो करेंसी में कैसे निवेश करते हैं और किस प्रकार की क्रिप्टो करेंसी को कैसे चुना जाता है। इन सब के बारे में इस वेबसाइट पर विस्तार पूर्वक जानकारी दी जाती है इस वजह से आप से अनुरोध है कि हमारे वेबसाइट पर जो अन्य आर्टिकल है उन्हें अवश्य पढ़ें और अपने विचार कमेंट में अवश्य बताएं। 

निष्कर्ष 

उम्मीद करते हैं ऊपर बताई गई सभी जानकारी को ध्यानपूर्वक पढ़ने के बाद हत्या समझ पाए होंगे कि आखिर क्रिप्टो करेंसी में निवेश कैसे करते है, क्रिप्टो करेंसी क्या होता है और इसकी शुरुआत कब हुई थी इन सभी चीजों के साथ साथ हमने आपको इन सब से जुड़े हुए सभी प्रकार के सवालों का सटीकता से जवाब देने का प्रयास किया है अगर आप इस लेख के साथ लाभ महसूस करते हैं तो इसे अपने मित्रों के साथ साझा करें साथ ही अपने सुझाव और विचार हमें कमेंट में बताना ना भूलें। 

Previous articleCryptocurrency Benefits and Risks in hindi – क्रीपटों मे क्या है फायदा और नुकसान
Next articleCoin Switch Kuber Kya Hai Aur Kaise Use Karte Hai – कैसे इस्तेमाल करे इस बेहतरीन एप का