Tax On Cryptocurrency: क्रिप्टोकरेंसी से होने वाले फायदे पर लगेगा  30 फीसदी टैक्स, नया नियम आज से लागू

जैसा की आप सभी को पता होगा आज से नए वित्त वर्ष 2022-2023 की शुरुआत हो गई है। बजट सत्र में सरकार ने देश के विकास कार्य के लिए बहुत सारी नई योजनाओं और नियमों को लाया है। सरकार ने इस वर्ष क्रिप्टो करेंसी निवेशिकों से संबंधित भी एक बिल पास किया है। इस वर्ष क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वाले निवेशकों को अपने मुनाफा या फायदे का 30 फ़ीसदी सरकार को टैक्स के रूप में चुकाना होगा। यह नया नियम आज से ही लागू किया गया है। तो आइए इसी विषय में और विस्तार से चर्चा करते हैं।

जैसा की आप सभी को पता होगा आज से नए वित्त वर्ष 2022-2023 की शुरुआत हो गई है। बजट सत्र में सरकार ने देश के विकास कार्य के लिए बहुत सारी नई योजनाओं और नियमों को लाया है। सरकार ने इस वर्ष क्रिप्टो करेंसी निवेशिकों से संबंधित भी एक बिल पास किया है। इस वर्ष क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वाले निवेशकों को अपने मुनाफा या फायदे का 30 फ़ीसदी सरकार को टैक्स के रूप में चुकाना होगा। यह नया नियम आज से ही लागू किया गया है। तो आइए इसी विषय में और विस्तार से चर्चा करते हैं।

Tax On Cryptocurrency: क्रिप्टोकरेंसी से होने वाले फायदे पर लगेगा  30 फीसदी टैक्स, नया नियम आज से लागू 99 Hindi

1 फरवरी 2022 को निर्मला सीतारमण ने देश के लिए 2022- 2023 का बजट पेश किया। आपको बता दें कि इस बजट में उन्होंने बताया कि क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वाले निवेशकों को अपने मुनाफे का 30 परसेंट टैक्स के रूप में सरकार को चुकाना होगा। संसद में फाइनेंस बिल पास होने के साथ ही क्रिप्टो करेंसी में टैक्स लगाने का प्रावधान चालू हो गया। हालांकि सरकार ने क्रिप्टो करेंसी को पूरी तरह से लीगल नहीं किया है पर फिर भी इसमें सरकार को टैक्स देना होगा।

मुनाफे के बिना बेचने पर भी देना होगा TDS

सरकार ने इस बिल के जरिए बताया कि यदि क्रिप्टो निवेशक मुनाफे में नहीं बेचते हैं फिर भी उन्हें टैक्स चुकाना ही होगा। ऐसे निवेशक जो मुनाफे में नहीं बेचते हैं उन्हें 1 फ़ीसदी का टीडीएस चुकाना होगा। इस कदम के पीछे सरकार का कहना है कि इसके जरिए सरकार क्रिप्टो करेंसी में लेनदेन होने वाले सभी तरह के ठिकानों का पता लगा सकेगी। सरकार के इस कदम के पीछे का कारण है कि सरकार क्रिप्टोकरंसी को लेकर बहुत ही सावधान है और इस में होने वाले किसी भी तरह के इस काम को रोकना चाहती है और इस पर नजर बनाए रखे हुए हैं। हालांकि आपको बता दें कि क्रिप्टो पर सरकार का कोई अंतिम फैसला नहीं आया है इसको लेकर सरकार ने कहा है कि सरकार क्रिप्टोकरंसी में हो रहे इस काम को लेकर बहुत सावधान है और बहुत सोच विचार करने के बाद ही सरकार का क्रिप्टोकरंसी पर अंतिम फैसला आएगा।

 बिटकॉइन की कीमतों में गिरावट जारी, Ethereum भी खिसकी नीचे

नुकसान के बावजूद भी चुकाना होगा टैक्स

सरकार ने कहा है कि क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों को एक क्रिप्टोकरेंसी से हुए लाभ को दूसरे क्रिप्टोकरेंसी में हुए नुकसान की भरपाई करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

आइए उदाहरण के माध्यम से इस बात को आप को समझाने की कोशिश करते हैं। मान लीजिए एक क्रिप्टो निवेशक ने बिटकॉइन और इथर दोनों क्रिप्टो करेंसी में निवेश किया है। बिटकॉइन में निवेश करने से उसे 100000 का फायदा होता है और वही एथेरियम में उसे एक लाख का नुकसान होता है। तो उस निवेशक को ₹100000 से होने वाले मुनाफे का 30 परसेंट सरकार को टैक्स के रूप में चुकाना होगा। इससे वह एथेरियम में हुए नुकसान की भरपाई नहीं कर सकेगा।

Conclusion

तो दोस्तों अगर आपको हमारे यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और कमेंट भी करें।

धन्यवाद

Previous articleBitCoin निवेशकों को लगा फिर से जोरदार झटका, महीने के सबसे निचले स्तर पर पहुंची बिटकॉइन की कीमत
Next articleGoogle के पूर्व CEO का बड़ा बयान कहा cryptocurrency से ज्यादा Web 3 को पसंद करते है