क्रिप्टो करेंसी के अपराधियों की अब खैर नहीं गृह मंत्रालय ने दि है गाइडलाइन

भारत में क्रिप्टो करेंसी इतना प्रचलित हो चुका है कि बड़ी तेजी से लोग अपना पैसा क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर रहे है और जितनी तेजी से लोग इसकी ओर आकर्षित हो रहे है उतनी ही तेजी से उतना ही अधिक अपराध का खतरा बढ़ रहा है। 

भारत में क्रिप्टो करेंसी इतना प्रचलित हो चुका है कि बड़ी तेजी से लोग अपना पैसा क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर रहे है और जितनी तेजी से लोग इसकी ओर आकर्षित हो रहे है उतनी ही तेजी से उतना ही अधिक अपराध का खतरा बढ़ रहा है। 

क्रिप्टो करेंसी में आए दिन विभिन्न प्रकार के अपराध देखने को मिलते हैं मगर भारत सरकार इसके ऊपर किस प्रकार कार्य करेगी यह बात पूरी तरह स्पष्ट नहीं हो पाई है 2022 के बजट में वर्चुअल डिजिटल करेंसी पर 30% का टैक्स लगाकर भारतीय सरकार ने हर किसी को चौंका दिया था। इसके बाद भी वर्तमान समय तक भारतीय सरकार ने इस बात की अस्पष्ट पुष्टि नहीं की है कि क्रिप्टो करेंसी भारत में वैद्य होगी या अवैध। 

ऐसी स्थिति में क्रिप्टो करेंसी को लेकर एक बहुत बड़ी खबर सामने आई है कि भारतीय गृह मंत्रालय ने क्रिप्टो करेंसी अपराध को काबू करने के लिए एक संगठन को तैयार किया है ऐसा पहली बार है जब पुलिस अधिकारियों के द्वारा क्रिप्टो करेंसी में होने वाले जुर्म के लिए कोई कानून पारित किया गया है। साथ ही सरकार ने यह भी बताया है कि जप्त की गई क्रिप्टो करेंसी का क्या किया जाएगा तो इसके संबंध में जानकारी प्राप्त करने के लिए अंत तक बने रहे। 

क्रिप्टो करेंसी के अपराधियों की अब खैर नहीं गृह मंत्रालय ने दि है गाइडलाइन 99 Hindi

एजेंसियों को क्रिप्टो वॉलेट रखना होगा

गृह मंत्रालय ने एक निर्देश देते हुए कहा है कि जितनी भी एजेंसी क्रिप्टो करेंसी में निवेश करवाने का कार्य करती है, उन्हें अपने पास एक क्रिप्टो वॉलेट रखने की आवश्यकता है। जिसमें जब तक किए गए डिजिटल ऐसेट को रखा जाएगा एजेंसियों को यह भी कहा गया है कि क्रिप्टो एक्सचेंज से सीधा संपर्क बनाकर रखें ताकि किस व्यक्ति के तरफ से कितना क्रिप्टो करेंसी खरीदा जा रहा है और उसके जरिए किस प्रकार की गतिविधि की जा रही है इस पर भी नजर रखा जा सके और जितने भी एप्लीकेशन है जो क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने की छूट देते हैं उनके पास भी एक वॉलेट रखने का निर्देश दिया गया है ताकि संदिग्ध व्यक्ति के अकाउंट को उसी वक्त ब्लॉक किया जा सके। 

जमा करें पुख्ता सबूत

गृह मंत्रालय के तरफ से जारी किए गए दिशा-निर्देश में यह भी कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति का क्रिप्टो एकाउंट ब्लॉक हो जाता है तो उसे खुलवाने के लिए उसके पास पुख्ता सबूत होना चाहिए कि वह कोई भी गलत कार्य नहीं कर रहा था। क्रिप्टो अपराध को काबू में रखने के लिए पुलिस अधिकारी वॉलेट का पूरा कंट्रोल रखेगी। 

तेजी से बढ़ रहा है कृपया क्राइम

क्रिप्टो करेंसी लोगों को जितना अधिक मुनाफा दे रही है विश्व भर के सरकार को उतना ही अधिक डरा रही थी कि अमेरिका के वॉल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक वर्ष 2021 में 14 अरब डॉलर का अवैध लेनदेन किया गया है जिसका कोई भी हिसाब मौजूद नहीं है। इसके साथ ही पिछले वर्ष यह रकम $7 अरब थी अर्थात पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष 80% अधिक अवैध लेनदेन क्रिप्टो करेंसी में किया गया है। 

यह सभी घटनाएं भारतीय सरकार को भी चिंतित कर रहे हैं जिस वजह से भारतीय सरकार ने क्रिप्टो करेंसी में हो रहे लेनदेन को काबू करने के लिए नियम कानून बनाने के बारे में विचार किया है जल्द ही भारत सरकार यह भी सुनिश्चित कर देगी कि भारत में इसे वैद्य रूप दिया जाएगा या अवैध रूप। 

Previous articleक्रिप्टोकरेंसी बाजार में फिर उछाल, एक टोकन में 3800% का तगड़ा इजाफा
Next articleCryptocurrency लीगल नहीं है , बावजूद इसके सरकार ने क्यों लगाया टैक्स, रविशंकर प्रसाद ने बताया