Bitcoin के जरिए पेमेंट को लेकर ब्रिटेन के सेंट्रल बैंक ने जताई शंका

Bitcoin payment news – रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन के सेंट्रल बैंक ने बिटकॉइन के जरिए पेमेंट को लेकर शंका जताई है। उनका कहना है कि मार्केट कैप के लिहाज से यह सबसे बड़ी क्रिप्टो करेंसी तो है लेकिन इससे कोई वैल्यू इसके साथ नहीं जुड़ी है। वही आपको बता दें कि पिछले कुछ सप्ताह में पूरे ग्लोबल क्रिप्टो मार्केट में काफी गिरावट नजर आई है जिससे दुनिया भर में crypto निवेशकों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। लगातार क्रिप्टो मार्केट में गिरावट को लेकर दुनिया भर में इसके निवेशक काफी चिंतित है

Bitcoin payment news
Bitcoin payment news

BOE यानी कि बैंक ऑफ इंग्लैंड ने हाल ही में एक बार फिर से बिटकॉइन को लेकर अपना सुझाव जारी किया है।Andrew Bailey  जो कि वर्तमान में बैंक ऑफ इंग्लैंड के गवर्नर है इन्होंने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान का है कि बिटकॉइन भले ही सबसे बड़ी क्रिप्टो करेंसी है लेकिन मार्केट कैप में इसके साथ इससे कोई वैल्यू नहीं जुड़ी है जिसके कारण इन्होंने बिटकॉइन को पेमेंट के तौर पर ठीक नहीं है कहां है। इसके साथ ही पिछले कुछ सप्ताह में ग्लोबल क्रिप्टो मार्केट कैप में लगभग सभी बड़ी क्रिप्टो करेंसी में गिरावट देखने को मिली है जिसको लेकर दुनिया भर में क्रिप्टो निवेशक काफी परेशान है और उन्हें करोड़ों डॉलर का नुकसान सहना पड़ रहा है।

आपको बता दें की Andrew Bailey जोकि बैंक ऑफ इंग्लैंड के गवर्नर है उन्होंने इससे पहले भी बिटकॉइन को लेकर इसके खिलाफ अपना सुझाव पेश किया है। आगे उन्होंने कहा कि बिटकॉइन के समर्थक मेरे इस सुझाव से नाराज हो सकते हैं और सहमत भी हो सकते हैं क्योंकि उन्होंने कहा है कि बिटकॉइन के साथ कोई वैल्यू नहीं जुड़ी है। उनका मानना है कि बिटकॉइन एक पूरी तरह से डिसेंट्रलाइज्ड है और इसमें काफी अधिक अधिक वोलैटिलिटी है जिसके वजह से या निवेशकों के लिए काफी बड़ा रिस्क है।

Must Read – Kto cryptocurrency – क्या है और इससे पैसा कैसे कमाए

हालांकि उन्होंने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के समर्थन में बोला है कि यह टेक्नोलॉजी काफी दिलचस्प है। वे इससे पहले भी ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का समर्थन कर चुके हैं

Previous articleहाल ही में crypto और NFT वॉलेट को Gamestop के द्वारा लॉन्च किया गया है।
Next articleCOINBASE बनी Fortune 500 की लिस्ट में शामिल होने वाली crypto इंडस्ट्री की पहली कंपनी