Bharat Me Cryptocurrency Ka Future – जनों भारत मे क्रीपटों का क्या होगा

भारत में क्रिप्टो करेंसी का एक का नया दौर शुरू हो चुका है लगभग हर कोई क्रिप्टो करेंसी में निवेश करना चाहता है। आज से कुछ साल पहले 2009 में जब बिटकॉइन ने पूरी दुनिया के समक्ष खुद को एक विश्व भर में इस्तेमाल करने वाले करेंसी के रूप में प्रस्तुत किया था तब से लेकर आज तक क्रिप्टो करेंसी के अनेकों प्रकार लोगों के समक्ष आए हर किसी का ध्यान क्रिप्टो करेंसी की बढ़ती हुई कीमत को देखते हुए उस पर निवेश करने के क्षेत्र में रहा। भारत से भी बहुत सारे लोग ने क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर के अच्छा पैसा कमाया है मगर बीते बजट के आने के बाद bharat me cryptocurrency ka future कैसा रहेगा इस बात को लेकर काफी अटकलें लगाई जा रही है। 

भारत में क्रिप्टो करेंसी का एक का नया दौर शुरू हो चुका है लगभग हर कोई क्रिप्टो करेंसी में निवेश करना चाहता है। आज से कुछ साल पहले 2009 में जब बिटकॉइन ने पूरी दुनिया के समक्ष खुद को एक विश्व भर में इस्तेमाल करने वाले करेंसी के रूप में प्रस्तुत किया था तब से लेकर आज तक क्रिप्टो करेंसी के अनेकों प्रकार लोगों के समक्ष आए हर किसी का ध्यान क्रिप्टो करेंसी की बढ़ती हुई कीमत को देखते हुए उस पर निवेश करने के क्षेत्र में रहा। भारत से भी बहुत सारे लोग ने क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर के अच्छा पैसा कमाया है मगर बीते बजट के आने के बाद bharat me cryptocurrency ka future कैसा रहेगा इस बात को लेकर काफी अटकलें लगाई जा रही है। 

अगर आप भी bharat me cryptocurrency ka future को लेकर चिंतित है और चाहते हैं कि इस संबंध में आप विस्तार पूर्वक जानकारी एकत्रित कर पाए तो आज के लेख के साथ अंत तक बनी रहे। 

bharat me cryptocurrency ka future

क्या भारत में बिटकॉइन गैरकानूनी है

2009 में जब जापान के सतोशी नाकामोतो ने विश्व के सामने एक ऐसा करेंसी रखा जिसका इस्तेमाल आप विश्व में कहीं भी कर सकते हैं और उसे काबू करने वाली कोई रेगुलेटरी नहीं थी और इसका नाम उन्होंने बिटकॉइन दिया। इसकी मात्रा निर्धारित होने की वजह से यह पहला ऐसा क्रिप्टो करेंसी बन पाया जिस ने लोगों को काफी अधिक मुनाफा करवाया। 

मात्रा निर्धारित होने की वजह से मांग के अनुसार कीमत में बढ़ोतरी हुई और कोई भी संस्था इसे काबू नहीं करती थी इस वजह से इसका इस्तेमाल गैरकानूनी कामों में बड़ी तेजी से होने लगा और बिटकॉइन की कीमत दिन पर दिन बढ़ने लगी जिस रफ्तार से बिटकॉइन ने लोगों के पैसे को दुगना और चौगुना किया उसने भारत के लोगों की आंखें भी चौथीआ गई। 

सरकार क्रिप्टो करेंसी के इस्तेमाल को समझती थी इस वजह से भारतीय सरकार ने क्रिप्टो करेंसी को मान्यता नहीं दी। इस बात को समझना आवश्यक है कि भारत में क्रिप्टो करेंसी को गैर कानूनी या बैन नहीं किया गया है ना ही इस तरह का नियम कोई पहले था। क्रिप्टो करेंसी को केवल भारत में मान्यता नहीं दी जाती अर्थात अगर आपका पैसा क्रिप्टो करेंसी में डूबता है तो इसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे अगर आप क्रिप्टो करेंसी से अधिक पैसा कमा पाते हैं इसके जिम्मेदार भी आप स्वयं होंगे। 

भारत से आप कौन से क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर सकते हैं

अगर हम बात करें कि भारत से आप कौन सी क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर सकते हैं तो इस सवाल के उठने का मुख्य कारण यह है कि आज से 10 साल पहले केवल एक या दो क्रिप्टो करेंसी लोगों के बीच थी मगर जिस रफ्तार से इंसानी सभ्यता डिजिटल युग के तरफ बढ़ रही है उसने 5000 से अधिक क्रिप्टो करेंसी को जन्म दिया है। 

लोग हर तरह के क्रिप्टो करेंसी में कुछ ना कुछ पैसा निवेश कर रहे हैं इस आशा में कि जब उनके निवेश किए गए क्रिप्टो करेंसी की मांग बढ़ेगी तो उसकी कीमत में बढ़ोतरी आएगी और यह अच्छा पैसा कमा पाएंगे। बीते इतिहास को देखते हुए अगर हम आने वाले समय का अंदाजा लगा है तो हम यह कह सकते हैं कि हो सकता है आपको लंबे अंतराल में क्रिप्टो करेंसी से काफी अधिक मुनाफा हो मगर वर्तमान में भारतीय सरकार इस क्रिप्टो करेंसी के इस्तेमाल को लेकर अभी भी उतनी ही जागरुक है जितनी पहले थी। 

अगर आप क्रिप्टो करेंसी में भारत से निवेश करना चाहते हैं तो आप किसी भी क्रिप्टो करेंसी में अपनी सुविधा अनुसार निवेश कर सकते हैं और इस निवेश करने की प्रक्रिया के लिए आप किसी भी क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं जिसे आप बिना कोई शुल्क अदा किए गूगल प्ले स्टोर से या एप्पल के एप स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। जब आप इस तरह के क्रिप्टो एक्सचेंज एप्लीकेशन को डाउनलोड करते हैं तो वहां आधार कार्ड और पैन कार्ड के जरिए आपको अपना अकाउंट बनाना होगा जिसमें आपको किसी भी प्रकार का शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है आप इसमें कम से कम ₹100 से अपना निवेश शुरू कर सकते हैं। 

भारत में क्रिप्टो करेंसी को लेकर नियम

बीते कुछ समय में भारत में क्रिप्टो करेंसी को लेकर एक बड़ा नियम बनाया गया जिसने काफी लोगों को चौंका कर रख दिया। आज से कुछ साल पहले जहां सरकार यह कहती थी कि उन्होंने क्रिप्टो करेंसी को मान्यता नहीं दी है और क्रिप्टो करेंसी में होने वाले फायदे और जोखिम के लिए निवेशक स्वयं जिम्मेदार है आज वही सरकार एक नए नियम के साथ क्रिप्टो करेंसी को भारत में संचालित करने का प्रयास कर रही है।

आपको बता दें कि पहले क्रिप्टो करेंसी पर किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं देना पड़ता था इस वजह से लोग काफी तीव्रता से क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने लगे मगर जिस तरह समय बदला हमारे पास 5000 से अधिक क्रिप्टो करेंसी के विकल्प आ गए और क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वाले लोगों की संख्या भी काफी अधिक मात्रा में बढ़ गई सरकार ने एक नियम लागू करते हुए क्रिप्टो करेंसी को देश में संचालित करने का प्रयास किया है। क्रिप्टो करेंसी पर लगाए गए नियम के अनुसार सरकार का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति क्रिप्टो करेंसी में निवेश करके मुनाफा कमाता है तो उसे अपने मुनाफे का 30% सरकार को टैक्स के रूप में देना होगा। 

उदाहरण के तौर पर अगर आप अपना ₹100 बिटकॉइन या एथेरियम जैसे क्रिप्टो करेंसी में निवेश करते हैं और आपको मुनाफा होता है और आपका पैसा क्रिप्टो करेंसी की मांग बढ़ने की वजह से ₹150 हो जाता है तो आपको उस ₹50 के मुनाफे में से 30% अर्थात ₹15 सरकार को टैक्स के रूप में देना होगा। 

bharat me cryptocurrency ka future

ऊपर हमने जिस नियम के बारे में चर्चा की हाल ही में सरकार ने इस नियम को नए बजट में लागू किया है जिसके बाद क्रिप्टो करेंसी से पैसा कमाने वाले लोग काफी आश्चर्यचकित हो गए हैं। इस नियम का मुख्य कारण यह है कि क्रिप्टो करेंसी को कोई भी निजी या सरकारी संस्था काबू नहीं करती इस वजह से क्रिप्टो करेंसी का अधिकतर इस्तेमाल गैरकानूनी काम में होता है और सरकार इस तरह के किसी भी कार्य में अपना समर्थन नहीं देना चाहती इस वजह से और क्रिप्टो करेंसी के बारे में जागरूकता ना होने की वजह से लोग इसमें अपना पैसा अधिक गवा देते हैं तो निवेशकों की मात्रा को कम करने के लिए सरकार ने क्रिप्टो करेंसी पर ऐसा नियम लागू किया है। 

इस नियम के बाद bharat me cryptocurrency ka future कुछ इस प्रकार नजर आता है कि सरकार इस तरह के निवेशक को कि कोई मदद नहीं करना चाहती और ना ही क्रिप्टो करेंसी जैसे अत्यधिक जोखिम भरे निवेश को अपने देश में अधिक मात्रा में जगह देना चाहती है इस वजह से हम उम्मीद कर सकते हैं कि इस पर आगे चलकर कुछ अन्य फैसले भी सरकार के द्वारा लिए जा सकते हैं। 

मगर क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वाले लोगों की मात्रा इतनी तेजी से बढ़ रही है और पूरे विश्व भर में ऐसे कई देश उभर कर आए हैं जिन्होंने क्रिप्टो करेंसी को ना केवल सहारा दिया बल्कि इसमें निवेश करने के लिए जागरूकता को भी फैलाने का प्रयास किया है तो हो सकता है कि सरकार भारत में क्रिप्टो करेंसी को बेन या बंद करने के बारे में विचार ना करें और इस संबंध में अधिक जागरूकता फैलाते हुए या फिर टैक्स के नियमों में कुछ बदलाव करके निवेशक ओ की मात्रा को कम करें या क्रिप्टो करेंसी को संचालित करने का प्रयास करें। 

निष्कर्ष

उम्मीद करते हैं ऊपर बताए गए सभी जानकारी को ध्यानपूर्वक पढ़ने के बाद आप bharat me cryptocurrency ka future को अच्छे से समझ पाए होंगे साथ ही क्रिप्टो करेंसी में किस प्रकार अधिक से अधिक मात्रा में निवेश हो रही है और इसमें आपके क्या विचार है इस संबंध में अपने विचार और प्रश्न हमें कमेंट में अवश्य बताएं। 

Previous articleDifference Between Cryptocurrency and Bitcoin in Hindi – दोनों मे क्या अंतर है
Next articleCryptocurrency Kab Kharidna Chahiye – कैसे आप क्रीपटों से ज्यादा काम सकते हो